अक्षय बजाज बने वाइल्ड लाइफ विशेषज्ञ

Share this article

  • अक्षय बजाज बने वाइल्ड लाइफ विशेषज्ञ

  • अक्षय बजाज ने कानपुर का नाम रोशन किया


मैं आप सब का स्वागत करता हूं समय मीडिया की रिपोर्ट में । तो आज मैं अक्षय बजाज जी के बारे में बताने वाला हूं , जो कि कानपुर के रहने वाले हैं ।

  • अक्षय बजाज बने वाइल्ड लाइफ विशेषज्ञ :- अपनेेे शहर के रहने वाले अक्षय बजाज के शौक ने उनको आज वाइल्डलाइफ विशेषज्ञ बना दिया है । जी हां जानवरों केेे साथ रहने उनके शौक ने इन्हें यह उपलब्धि दिलाई है । कानपुर प्राणी उद्यान मैं गेंडों की संख्या बढ़ाने का मामला हो या फिर रैपिटाइल रेस्टोरेंट का निर्माण या फिर कछुओं की संख्या बढ़ाने का मुद्दा हो। सबका श्रेय अक्षय जी को ही जाता है । और तो और 2016 मैं प्रतापगढ़ में एक रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान उन्होंने बाघ पकड़ कर मिसाल कायम कर दी ।
  • इसे भी पढ़े :- कोई भी Movie, Web Series Download करे बड़ी आसानी से

रतनलाल नगर में रहने वाले अक्षय बाजार बताते हैं कि बचपन से ही उन्हें जानवरों के साथ रहने का शौक था ।इसी के चलते उनकी दोस्ती मोहल्ले के कुत्तों , घर से निकलने वाले सांपों समेत अन्य प्रकार के जीवो से होती गई । धीरे-धीरे शौक जुड़ने बदल गया इस पर अपने पैसे खर्च कर कानपुर चिड़ियाघर की ओर रुख कर लिया यहां पर उनकी मुलाकात जानवरों के चिकित्सक डॉक्टर आर के सिंह से हुई उनकी देखरेख में अक्षय ने जानवरों को पकड़ने के साथ उनकी संख्या बढ़ाने पर काम शुरू किया

गेंडों की संख्या बढ़ाने में है अहम योगदान :- अक्षय बताते हैं कि कानपुर प्राणी उद्यान में गेंडों की संख्या ना के बराबर थी । यह देख उन्होंने 2014 से इन पर रिसर्च शुरू की । काफी मेहनत के बाद ब्रीडिंग का प्रयास किया । जिसमें सफलता भी पाई । 2016 में कृष्ण गेंडे का जन्म चिड़ियाघर में जन्म हुआ ।

इसे भी पढ़े :- Stree ( 2018 ) Film Full Review

कछुओं की संख्या बढ़ाने की भी कोशिस :- कानपुर प्राणी उद्यान में कछुओं की संख्या बड़ी तेजी से घट रही थी । अक्षय के प्रयास से उनकी संख्या में काफी इजाफा हुआ , फिर तेजी हुई । अब ठीक-ठाक संख्या में कछुए यहां हो गए हैं । वर्तमान में वह देहरादून स्थित वर्ल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में वाइल्डलाइफ के रेस्क्यू के बारे में युवाओं को जानकारी दे रहे हैं।

समय मीडिया की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *